Tuesday, 27 March 2012

यूरोपीय हिंदी संगोष्ठी,स्पेन, 2012 :समग्र रिपोर्ट व विवरण


यूरोपीय हिंदी संगोष्ठी,स्पेन, 2012 

समग्र रिपोर्ट व विवरण

- प्रो. श्रीश चंद्र जैसवाल 
 

इस संगोष्ठी का मूल उद्देश्य यूरोप के विभिन्न देशों में विदेशी भाषा के रूप में हिन्दी शिक्षण पर दृष्टिपात करना था। इस संगोष्ठी ने हिन्दी के विश्व रूप पर प्रकाश डालते हुए हिन्दी अध्ययन और अध्यापन से संबंधित समस्याओं और उनके निदान पर चर्चा- परिचर्चा करने के लिए एक मंच प्रदान किया। संगोष्ठी में भारत सहित 21 देशों के 33 प्रतिष्ठित विद्वान सम्मिलित हुए।

संगोष्ठी का उद्घाटन वय्यादोलिद विश्वविद्यालय के उपकुलपति, स्पेन में भारत के राजदूत, वय्यादोलिद विश्वविद्यालय की डिप्टी डीन, कासा दे ला इंडिया के निदेशक तथा संगोष्ठी के शैक्षिक निदेशक द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से किया गया। तदुरांत भारत सरकार के विदेश मंत्री महोदय श्री एस.एम. कृष्णा का संदेश पढ़ा गया। विश्वविद्यालय के उपकुलपति प्रो.मार्कोस साक्रिस्तान ने अपने अध्यक्षीय वक्तव्य में कहा कि प्रागैतिहासिक काल से ही वय्यादोलिद शहर तथा विश्वविद्यालय पर एशिया का महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है। इन देशों की संस्कृति के प्रभाव से वय्यादोलिद विश्वविद्यालय में एशियाई अध्ययन की परम्परा का सूत्रपात हुआ। वर्ष 2000 में एशियन स्टडीज़ सेंटर की स्थापना हुई । वय्यादोलिद के विश्वविद्यालय एशियन स्टडीज़ ने भारत सरकार के विदेश मंत्रालय के सौजन्य से वय्यादोलिद, स्पेन में 15,16&17 मार्च,2012 को “विदेशी भाषा के रूप में हिन्दी शिक्षण : परिदृश्य” विषय पर एक संगोष्ठी आयोजित की। भारतीय दूतावास माद्रिद और कासा दे ला इंडिया के पूर्ण सहयोग से ही स्पेन में पहली संगोष्ठी का सफल आयोजन हुआ।

इस केन्द्र में प्राचीन तथा आधुनिक भारत के आर्थिक, सांस्कृतिक, ऐतिहासिक तथा सामाजिक पक्षों के बारे में कई संगोष्ठियों का आयोजन किया जाता है। वय्यादोलिद विश्वविद्यालय भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के सहयोग से भारतीय अध्ययन में एक स्नातकोत्तर डिग्री आरम्भ करने जा रहा है, जो क्रियान्वयन के अंतिम चरण में है। हिन्दी भाषा के अध्यापन की दिशा में भी वय्यादोलिद विश्वविद्यालय अग्रणीय है। वर्ष 2004 में भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के सहयोग से वय्यादोलिद विश्वविद्यालय में विभिन्न स्तरों पर हिन्दी भाषा का अध्यापन शुरू हुआ।

भारत तथा स्पेन के मध्य सांस्कृतिक संबंधों को बढ़ाने के लिए वर्ष 2003 में स्पेन में वय्यादोलिद की नगर परिषद, वय्यादोलिद विश्वविद्यालय तथा भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के सौजन्य से कासा दे ला इंडिया की स्थापना की गई, जिसमें विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। स्पेन तथा भारत के संबंध द्रुत गति से बढ़ रहे हैं और यह विकास शैक्षिक, सांस्कृतिक, वैज्ञानिक और तकनीकी सहयोग में दिखाई देना चाहिए।


स्पेन के भारतीय राजदूत महोदय श्री सुनील लाल ने मुख्य अतिथि के रूप में अपने भाषण में हिंदी की संपन्न परंपरा का ज़िक्र करते हुए बताया कि अन्य भारतीय भाषाओँ के संपर्क में आने के कारण हिंदी स्वयं लाभान्वित हुई है तथा उसने उन्हें भी लाभान्वित किया है। भारत की 22 स्वीकृत भाषाएँ उसकी बहुभाषिकता स्थिति को द्योदित करती हैं तथा राजभाषा के माध्यम से भारत की अनेकता में एकता परिलक्षित होती है। विश्व का सबसे बड़ा प्रजातंत्र भारतवर्ष 2050 तक सबसे बड़ी अर्थ व्यवस्था के रूप में उभरेगा और अन्तर्राष्ट्रीय कार्य बल में महत्वपूर्ण भारतीय साझेदारी के कारण हिंदी अन्तर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में स्थापित होगी। उन्होंने संगोष्ठी की सफलता के लिए शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस संगोष्ठी में सम्मिलित सभी विद्वान योरोप में विदेशी भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण को और प्रभावी बनाने के तरीकों पर विचार विमर्श करेंगे और अध्यापन में भाषा के साथ भारत की संस्कृति और दर्शन का भी समन्वय करेंगे। 

प्रो. उदय नारायण सिंह ने ‘नया शतक नई दिशा - भारतीय भाषाओँ के शिक्षण की समस्याएं और संभावनाएं’ विषय पर अपना बीज वक्तव्य दिया। उन्होंने कहा कि प्रत्येक भाषा की अपनी पहचान होती है और उनके पठन पाठन की अपनी समस्याएं होती हैं। भारतीय बहुभाषिकता के वातावरण में हिंदी पर अन्य भाषाओं का प्रभाव स्पष्ट रूप से परिलक्षित होता है। अंग्रेज़ी, स्थानीय भाषाएँ और बोलियां हिंदी की शब्दावली और अक्सर संरचना को भी प्रभावित करती हैं। हिंदी के विदेशी अध्येताओं को इसका ज्ञान अवश्य देना चाहिए। उन्हें भारतीय व्यवहार की स्थिति से अवगत कराना आवश्यक है। हिंदी एक ओर मानक हिंदी है, जो साहित्य में व्यवहृत होती है तो दूसरी ओर बोलचाल की मिश्र हिंदी है, जिसका प्रयोग आम जनता करती है और उसे टेलिविज़न पर भी देखा जा सकता है। ऐसी स्थिति में यह समझना आवश्यक है कि हिंदी एक भाषा संसार का नाम है, सीमित क्षेत्र का वाचिक संप्रेक्षण माध्यम मात्र नहीं। हिंदी भाषा शिक्षण के क्षेत्र में सम्प्रति हमारे समक्ष अनेक प्रकार की चुनौतियाँ हैं, जिसके लिए हमें कुछ अनोखे और असाधारण ढंग से सोचने विचारने की आवश्यकता है।

बीज भाषण के उपरांत संगोष्ठी के शैक्षिक निदेशक प्रोफ़ेसर श्रीश चंद्र जैसवाल ने संगोष्ठी के आयोजकों की ओर से सर्वप्रथम भारत सरकार के विदेश मंत्री महोदय का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनकी शुभकामनाएं हमारे इस शैक्षिक अनुष्ठान को सफलता पूर्वक संपन्न कर पाने में अत्यंत सहायक होंगी. उन्होंने विदेश मंत्रालय के प्रशासन एवं हिंदी विभाग को उनके सकारात्मक रवैये और उदार अनुदान के लिए आभार व्यक्त किया. 

वय्यादोलिद विश्वविद्यालय के रैक्टर प्रो. मार्कोस साक्रिस्तान, वाइस रैक्टर प्रो.लुईस सांतोस,एशियन स्टडीज़ सेंटर के प्रो. ऑस्कर रामोस्त था उनके सहयोगियों ने संगोष्ठी के आदि से अंत तक पूर्ण सहयोग दिया, कासा दे ला इंडिया के निदेशक डॉ गियर्मो तथा उनके सहयोगियों के परिश्रम और संपर्कों के बिना इस संगोष्ठी का आयोजन असंभव था, इन सभी अधिकारियों को धन्यवाद देने के उपरांत उन्होंने पूर्व भारतीय राजदूत सुश्री सुजाता मेहता तथा नए राजदूत श्रद्धेय सुनील लाल, काउंसलर श्री बिराजा प्रसाद, सांस्कृतिक सचिव श्रीमती पोलोमी त्रिपाठी तथा काउंसलर श्री पिल्लै का के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उक्त सभी अधिकारियों के निरंतर सहयोग और दिशा निर्देशन संगोष्ठी के लिए नितान्त आवश्यक थे.

अंत में प्रो .जैसवाल ने संगोष्ठी में 21 देशों से आये हुए सभी गणमान्य प्रतिभागियों का हार्दिक धन्यवाद किया, जिनमें विश्व हिंदी सचिवालय की महासचिव श्रीमती पूनम जुनेजा, अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के कुलपति श्री विभूति नारायण राय, केन्द्रीय हिंदी शिक्षण मंडल, आगरा के उपाध्यक्ष और विश्व प्रसिद्ध कवि श्री अशोक चक्रधर, विश्वभारती शान्तिनिकेतन के प्रोवाइस चांसलर प्रो. उदय नारायण सिंह, टेक्सस विश्वविद्यालय के एमरेटस प्रोफ़ेसर हर्मन ओल्फेन सम्मिलित थे. उन्होंने सभी प्रतिभागियों से आगामी सत्रों में सार्थक सहयोग की कामना की, जिससे स्पेन में आयोजित हिंदी की पहली संगोष्ठी को सफल बनाया जा सके।

संगोष्ठी के प्रथम शैक्षिक सत्र ‘पश्चिमी तथा मध्य यूरोप में हिन्दी शिक्षण : वर्तमान परिदृश्य’ की अध्यक्षता प्रो. हर्मन वैन ऑल्फ़ेन ने की. इस सत्र में छह आलेख पढ़े गए।
न्यू यूनिवर्सिटी, लिस्बन के प्रो. अफज़ाल अहमद ने पुर्तगाल में हिन्दी शिक्षण का इतिहास बताते हुए आग्रह किया कि विद्यार्थियों को हिन्दी के ज्ञान के साथ साथ भारत की विभिन्न क्षेत्रों में विशिष्टता का ज्ञान भी कराया जाना चाहिए।

विएना विश्वविद्यालय की अलका चुडाल ने विएना में हिन्दी शिक्षण का ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य सामने रखा तथा वर्तमान पाठ्यक्रम की पूरी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वहाँ के विद्यार्थी योग, शास्त्रीय संगीत और भारतीय नृत्य से आकर्षित होकर बारीकी से उन्हें समझने के लिए हिन्दी पढ़ते हैं।

तोरीनो विश्वविद्यालय की आलेस्सान्द्रा ने इटली में हिन्दी शिक्षण की जानकारी देते हुए इस तथ्य पर बल दिया कि विद्यार्थियों को हिन्दी के माध्यम से भारतीय संस्कृति में प्रवेश मिल जाता है। उन्होंने बताया कि इटली के व्यापारिक निगमों में हिन्दी का ज्ञान रखने वाले विद्यार्थियों को रोज़गार के अवसर भी मिल रहे हैं।
यॉर्क विश्वविद्यालय के महेंद्र किशोर वर्मा ने मानक हिन्दी और/या प्रामाणिक हिन्दी पर अपने आलेख में पाठ्य सामग्री चयन और पाठ्य सामग्री की रचना के विषय से संबंधित बिंदुओं पर प्रकाश डाला। उनके अनुसार भारत में हिन्दी के बदलते स्वरूप को ध्यान में रखते हुए मानक हिन्दी तथा प्रामाणिक हिन्दी के महत्व की व्याख्या की जानी चाहिए। 

घेंट विश्वविद्यालय, बेल्जियम से आए रमेश चन्द्र शर्मा ने आग्रह किया कि हमें यूरोप के विश्वविद्यालयों में हिन्दी का एक सामाजिक वातावरण तैयार करना चाहिए, जिसमें एक ओर हिन्दी का भाषा वैज्ञानिक आधार हो दूसरी ओर उसका एक सामाजिक आधार हो। उन्होंने एक ऐसे पाठ्यक्रम की आवश्यकता व्यक्त की, जो शब्द और संस्कृति दोनों का ज्ञान दे सके। 

कासा एसिया, माद्रिद की शेफ़ाली वर्मा ने स्पेन में हिंदी के अध्येताओं के समक्ष आनेवाली व्यावहारिक कठिनाइयाँ रखीं और उनके समाधान के लिए आग्रह किया .

कुल मिलाकर यह सत्र हिन्दी से आत्मीय रिश्ता जोड़ने की आकांक्षा से युक्त सत्र रहा।

‘भाषा प्रौद्योगिकी और हिंदी शिक्षण में उसका अनुप्रयोग’ विषय पर आधारित दूसरे शैक्षिक सत्र के अध्यक्ष थे प्रो.अशोक चक्रधर। इस सत्र के प्रारंभ में श्रीश जैसवाल ने हिन्दी के प्रचार प्रसार में अध्ययन – अध्यापन तथा उसे विश्व भाषा के रूप में स्थापित करने के लिए कम्प्यूटर के अनुप्रयोग पर बल दिया। अशोक चक्रधर ने कहा कि हिन्दी के प्रगामी प्रयोग के लिए भारत सरकार और विभिन्न संस्थानों को ही उत्तरदायी न माना जाए, वरन व्यक्तिगत स्तर पर इसके लिए प्रयास किए जाएँ। अपनी रोचक और प्रभावी पावर पौइन्ट प्रस्तुति के माध्यम से उन्होंने कंप्यूटर पर उपलब्ध आधुनिकतम अनुप्रयोग दिखाए, जो हिन्दी शिक्षण के लिए नितांत उपयोगी हैं। हिन्दी के मानकीकरण के संबंध में सभी के प्रयासों का स्वागत करते हुए उन्होंने कहा कि हमें अशुद्धियों को छोड़कर प्रबुद्धि पर ध्यान देना चाहिए।

गेनादी श्लोम्पर ने हिन्दी पाठ्य सामग्री निर्माण में टेलिविज़न व रेडियो आदि के महत्व पर प्रकाश डाला। टी.वी. समाचार के आधार पर हिन्दी शिक्षण सामग्री तैयार करते हुए उन्होंने चुनाव, सामाजिक आंदोलन, अन्तर्राष्ट्रीय संबंध, खेलकूद आदि विषयक समाचारों को तथा भाषा की रोचकता और सुग्राह्यता को महत्व दिया।

प्रो. हर्मन वैन ऑल्फेन ने अमेरिका में हिन्दी शिक्षण संबंधी इतिहास का परिचय देते हुए कहा कि भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिकों की संख्या में वृद्धि होने के कारण 1985 के बाद वहाँ हिन्दी शिक्षण का तेज़ी से प्रसार हुआ। उन्होंने पिछले पचास वर्षों में हिन्दी भाषा शिक्षण में प्राद्योगिकी के प्रयोग का वर्णन करते हुए आधुनिक युग में उसकी उपयोगिता और नवीनतम विकासों के अनुप्रयोग पर बल दिया। 

ऐश्वर्ज कुमार ने बताया कि यूरोपीय आर्थिक मंदी हिन्दी के पठन पठान पर प्रभाव डाल रही है। हिन्दी के प्रति खुद हिन्दी भाषियों या भारतीयों की सोच मौजूदा स्थिति की जिम्मेदार है। इस मानसिकता को बदलना होगा ।

कविता वाचक्नवी ने भाषा प्रकार्यों के अधुनातन सन्दर्भ और हिन्दी विषय पर अपनी प्रस्तुति दी। उन्होंने वैश्वीकरण के सकारात्मक पक्षों के ऊपर ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने बताया कि हिन्दी विश्व में दूसरी सबसे बड़ी भाषा है, किन्तु इंटरनेट आदि माध्यमों के प्रयोग में अन्य भाषाभाषियों से काफ़ी पीछे हैं। उन्होंने हिन्दी भाषा समाज के लिए उपलब्ध सॉफ्टवेयर की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि तकनीकी दृष्टि से हिन्दी को कंप्यूटर की चुनौती व प्रयोक्ता – सापेक्ष होने की यात्रा में बहुत आगे जाना अभी शेष है।

तृतीय शैक्षिक सत्र ‘शेष यूरोप में हिन्दी शिक्षण : वर्तमान परिदृश्य’ पर केंद्रित था. इस सत्र की अध्यक्षता प्रो.मोहन कान्त गौतम ने की। 

इस सत्र के पहले वक्तव्य में स्लोवेनिया विश्वविद्यालय के अरुण मिश्र ने अपने विश्वविद्यालय में हिन्दी अध्यापन की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि वहाँ के विद्यार्थियों को व्याकरण आदि विषयों के साथ साथ भारतीय संस्कृति का भी ज्ञान दिया जाता है। शीघ्र ही वहाँ भारतीय अध्ययन प्रकोष्ठ को वैधानिक मान्यता मिलेगी और उसके साथ ही हिन्दी शिक्षण में तीव्र गति से प्रगति होगी।

बिल्जाना ज्रनिक ने ज़ाग्रेव विश्वविद्यालय में हिन्दी शिक्षण और हिंदी विभाग की अन्य गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए अपने विद्यार्थियों की भाषा अधिगम सम्बन्धी समस्याएँ सामने रखीं तथा यह भी बताया कि वे कैसे उनका निदान करती हैं.

दानूता स्तासिक ने वारसा विश्वविद्यालय में हिन्दी के नियमित अध्ययन- अध्यापन की चर्चा करते हुए बताया कि अब तक 90 विद्यार्थियों को हिन्दी एम.ए. की डिग्री मिल चुकी है। उन्होंने कहा कि हिन्दी हमारा भरण पोषण करते हुए भूमंडलीकृत दुनिया में अपनी पहचान को भी स्थापित करने में सहायता देती है। 

हैंज़ वर्नर वेसलर ने उप्साला विश्वविद्यालय, स्वीडन में हिन्दी व संस्कृत के इतिहास का उल्लेख करते हुए कहा कि वहाँ हिन्दी शिक्षण की महत्वपूर्ण भूमिका है। वहाँ के विद्यार्थियों में हिंदी मीडिया में अधिक दिलचस्पी है । 

इंदिरा गाज़िएवा ने रूसी सरकारी मानविकी विश्वविद्यालय में हिन्दी शिक्षण का चित्र उपस्थित करते हुए अध्यापन में आने वाली कठिनाइयों का ज़िक्र किया। 

मॉस्को विश्वविद्यालय रूस की ल्युदमीला खोख्लोवा ने बताया कि साम्यवादी काल में विद्यार्थियों को हिन्दी के माध्यम से पार्टी साहित्य पढ़ाया जाता था, लेकिन रूस के पुनर्गठन के बाद हिन्दी शिक्षण पद्धति बदल गई। विद्यार्थियों की भारतीय संस्कृति. धर्म में बहुत जिज्ञासा है और उनके अनुसार उनके विश्वविद्यालय में हिन्दी का भविष्य उज्ज्वल है।

बुखारा विश्वविद्यालय रूमानिया की सबीना पोपर्लान ने बताया के वहाँ भारतीय दर्शन और चिंतन के अध्ययन की एक परंपरा रही है। उनके विश्वविद्यालय में भारतीय संस्कृति पर कई किताबें लिखी गई हैं। ज़्यादातर शोध कार्य भाषा विज्ञान से संबंधित होता है। 

एल्ते विश्वविद्यालय, बुडापेस्ट की विजया सती ने कहा कि हंगरी में तीन वर्षों का इंडोलॉजी अध्ययन कराया जाता है I यहाँ का मूल उद्देश्य संवाद है, जिसके माध्यम से संस्कृति और हिन्दी की जानकारी भी दी जाती है, भारतीय संस्कृति से जुड़े उपादानों का परिचय भी दिया जाता है। हिन्दी को रोज़गारपरक बनाने की कोशिश की जाती है। 

मोहन कान्त गौतम ने अपने अध्यक्षीय वक्तव्य में कहा कि हिन्दी के विकास की प्रक्रियाओं को हमें देखना है। हम इस क्षेत्र में आगे बढ़ते हुए मीडिया का उपयोग कर सकते हैं। हिन्दी को रोज़गारपरक बनाने की कोशिश होनी चाहिए। इससे हमारे यूरोपीय विद्यार्थी हिन्दी का प्रयोग अपने रोज़गार के लिए कर सकते हैं। हिंदी भाषा का व्यावहारिक रूप अपनाना अधिक उपयुक्त है।

संगोष्ठी का चतुर्थ शैक्षिक सत्र ‘हिन्दी शिक्षण तथा पाठ्यक्रम संबंधी समस्याएं तथा समाधान’ श्री विभूति नारायण राय की अध्यक्षता में संपन्न हुआ. 

 सत्र के प्रारंभ में वर्धा विश्वविद्यालय के जगन्नाथन ने हिन्दी की दो प्रमुख समस्याओं – संदर्भानुसार उपयुक्त पाठ्यक्रमों व सन्दर्भ ग्रंथों की कमी और भाषा व भाषा शिक्षण दोनों ही क्षेत्रों में मानकीकरण के अभाव को सामने रखा। उन्होंने लचीले, समस्तरीय और गुणता वाले पाठ्यक्रम के निर्माण पर बल दिया, जिसे अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर लागू किया जा सके और जो घटत्व के सिद्धांत का पालन करे। इस प्रकार सभी शैक्षिक संस्थाएं मानकीकरण के मंच पर एकत्र होकर देश विदेश के विद्वानों द्वारा निर्मित पाठ्य सामग्री का लाभ ले सकेंगी।

जे.एन.यू. दिल्ली की वैश्ना नारंग ने विदेशी भाषा के शिक्षण और भाषा को दूसरी भाषा के रूप में पढ़ाने के पक्षों के भेद उभारने का प्रयास किया। उन्होंने यूरोपीय सन्दर्भों में हिन्दी भाषा अध्ययन –अध्यापन प्रक्रिया के आधार पर हुए विदेशी भाषा अधिगम के अंतर्गत संज्ञान प्रक्रिया को स्पष्ट किया। 

वारसा विश्वविद्यालय के कैलाश नारायण तिवारी ने हिन्दी भाषा और साहित्य पढ़ाने के लिए विभिन्न विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों की विभिन्नता को समाप्त करते हुए एक उच्च स्तरीय मानक पाठ्यक्रम के निर्माण की बात कही, जिसमें उन्होंने भारतीय तथा विदेशी विद्वानों के पूर्ण सहयोग पर बल दिया ।

लूसान विश्वविद्यालय, स्विट्ज़रलैंड के नवीन चन्द्र लोहानी ने ‘हिन्दी साहित्य शिक्षण के लिए आलोचना मानदंडों की मुश्किलों’ पर चर्चा करते हुए बताया कि हिन्दी साहित्य को समझने के मानदंड संस्कृत, काव्य शास्त्र, पाणिनि व्याकरण तथा विश्व के आलोचनाशास्त्रों से प्राप्त वैचारिकी द्वारा मिले हैं। 

सोफ़िया विश्वविद्यालय के नारायण राजू ने हिन्दी शिक्षण में भारतीय सांस्कृतिक एवं सामाजिक सन्दर्भ का महत्व स्थापित किया। 

लिस्बन विश्वविद्यालय से आए शिव कुमार सिंह ने पुर्तगाल में विदेशी भाषा के रूप में हिन्दी शिक्षण व्यवस्था से संबंधित चुनौतियों को प्रस्तुत किया। उन्होंने हिन्दी सीखने की प्रेरणा और शिक्षण पद्धतियों का ज़िक्र करते हुए सांस्कृतिक सन्दर्भों के महत्व को दर्शाया तथा यूरोप की स्थानीय भाषाओं में हिन्दी शिक्षण संसाधन तैयार करने पर बल दिया।

हैम्बर्ग विश्वविद्यालय की तात्याना ओरान्स्कया ने हिन्दी शिक्षण के संबंध में विश्व हिन्दी दिवस के महत्व के बारे में कुछ विचार रखते हुए उसकी सकारात्मक भूमिका को स्वीकार किया तथा बताया कि यूरोपीय विश्वविद्यालयों में हिन्दी शिक्षण की समस्या के मूल में भारत की गृहभाषा- राजनीति ही नहीं बल्कि अन्तर्राष्ट्रीय आर्थिक और राजनैतिक तथ्य भी हैं।

कासा एसिया, बार्सिलोना से आईं दीप्ति गुलानी ने स्पेन में हिन्दी भाषा अध्ययन की अपेक्षाओं और कठिनाइयों पर प्रकाश डाला। उन्होंने हिन्दी शिक्षण की व्यावहारिक समस्याओं का उल्लेख किया और बताया कि स्पेन में हिन्दी के प्रति दिलचस्पी बढ़ रही है।

इस सत्र के अंतिम वक्ता लाइडन विश्वविद्यालय, नैदरलैंड के मोहन कान्त गौतम ने यूरोप में हिन्दी अध्ययन की विस्तृत समस्याएं और उनके समाधान पर अपनी प्रस्तुति की। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यूरोपियन संसद यूरोप में प्रचलित सभी भाषाओं को मान्यता प्रदान करेगी और हिन्दी भाषा तथा इसका विशाल साहित्य यूरोप की सभ्यता को और अधिक संपन्न करेगा।

संगोष्ठी के समापन सत्र की अध्यक्षता प्रो. उदय नारायण सिंह ने की। इस सत्र में चारों शैक्षिक सत्रों की रिपोर्ट क्रमशः विजया सती, शिव कुमार सिंह. रमेश शर्मा तथा ऐश्वर्ज कुमार ने प्रस्तुत की। तदुपरांत संगोष्ठी में उठे सभी मुद्दों पर व्यापक चर्चा हुई और अंत में संगोष्ठी की ओर से की जाने वाली संस्तुतियों पर विचार विमर्श हुआ। गंभीर चिंतन और पारस्परिक विचार विनिमय के बाद सर्वसम्मति से विदेश मंत्रालय के समक्ष निम्नलिखित संस्तुतियों को रखने का निर्णय हुआ –

  1. आठवें विश्व हिन्दी सम्मेलन, न्यूयॉर्क की प्रमुख संस्तुति “अन्तर्राष्ट्रीय मानक हिन्दी पाठ्यक्रम” की परियोजना को क्रियान्वित किया जाए और उसमें हिन्दी के सामाजिक और सांस्कृतिक सन्दर्भौं का समावेश किया जाए।
  2.  विदेशी भाषा के रूप में हिन्दी शिक्षण में संलग्न भारतीय एवं भारतेतर प्राध्यापकों को भाषा शिक्षण प्रविधि. साहित्य शिक्षण प्रविधि. हिन्दी व्याकरण. हिन्दी का सामाजिक एवं सांस्कृतिक सन्दर्भ आदि विषयों में प्रशिक्षित किया जाए।
  3.  यूरोप में इस प्रकार की शैक्षिक संगोष्ठियां विदेश मंत्रालय के सहयोग से हर दो वर्ष में नियमित रूप से आयोजित की जाएँ। वर्ष 2014 की यूरोपीय हिन्दी संगोष्ठी वारसा विश्वविद्यालय में आयोजित करने का प्रस्ताव है।
  4. पंचवर्षीय योजना के अंतर्गत एक 24 घंटे का हिन्दी भाषा चैनल प्रारम्भ किया जाए, जिसमें हिन्दी की सभी प्रयुक्तियाँ उपलब्ध हों तथा वेब पर हिन्दी की विशाल सामग्री को एक स्थान पर हिन्दी अध्येताओं को उपलब्ध कराया जाए।
  5.  अंग्रेज़ी से इतर विदेशी भाषाओं को दृष्टि में रखकर मल्टीमीडिया सहित हिन्दी शिक्षण सामग्री का निर्माण किया जाए।
  6. विदेशी भाषा के रूप में हिन्दी शिक्षण के लिए स्नातकोत्तर स्तर का पाठ्यक्रम विकसित किया जाए।
  7.  भारतीय संस्कृत संबंध परिषद द्वारा विभिन्न विदेशी विश्वविद्यालयों में हिन्दी पीठों की संख्या में वृद्धि की जाए।
  8.   हिन्दी साहित्य एवं हिन्दी शिक्षण की उपयोगी पुस्तकें तथा मल्टी मीडिया सामग्री उन सभी विश्वविद्यालयों को विदेश मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराई जाएं, जहाँ हिन्दी अध्ययन अध्यापन की सुविधाएँ हैं।
  9. अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय के डायनमिक पोर्टल पर वर्चुअल क्लास रूम की व्यवस्था की जाए, जिसके माध्यम से विदेशों में अध्ययनरत हिन्दी विद्यार्थियों को हिन्दी साहित्य तथा हिन्दी भाषा के विद्वानों के विभिन्न विषयों पर व्याख्यान उपलब्ध कराए जाएँ।
  10. विश्व में विदेशी भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण से संबंधित उक्त सभी संस्तुतियों के क्रियान्वयन के लिए विदेश मंत्रालय के अतिरिक्त भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद, अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा और विश्व हिंदी सचिवालय,मॉरिशस उत्तरदायित्व लें तथा एतदर्थ प्रभावी परियोजनाएं बनाए।

समापन समारोह की अध्यक्ष एशियन स्टडीज़ की प्रो. ब्लांका ने संगोष्ठी के सफल आयोजन पर बधाई दी और आशा व्यक्त की कि इस अवधि में हुई विद्वत्तापूर्ण चर्चा - परिचर्चा से सभी प्रतिभागी लाभान्वित हुए होंगे। मुख्य अतिथि के रूप में विश्व हिन्दी सचिवालय, मॉरिशस की महासचिव श्रीमती पूनम जुनेजा ने संगोष्ठी की सार्थकता को रेखांकित किया। उन्होंने आश्वासन दिया कि विश्व हिंदी सचिवालय संगोष्ठी द्वारा की गई संस्तुतियों पर अपेक्षित कार्रवाई करेगा। विशिष्ट अतिथि महात्मा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के उपकुलपति श्री विभूति नारायण राय ने कहा कि यह संगोष्ठी अपनी उत्कृष्टता के लिए याद की जायेगी। इसने आगामी संगोष्ठियों के लिए मानक स्थापित किये हैं। उन्होंने कहा कि संगोष्ठी द्वारा पारित सभी संस्तुतियों का स्वागत है तथा उनका विश्वविद्यालय संस्तुतियों को क्रियान्वित करने का उत्तरदायित्व लेता है। संगोष्ठी की समाप्ति कासा दे ला इंडिया के निदेशक डॉ गियार्मो रोड्रगेज़ के धन्यवाद ज्ञापन से हुई।


भाषा और संस्कृति का अन्योन्याश्रित संबंध है। संगोष्ठी के पहले दिन गहन चिंतन और विचार मंथन के उपरांत शाम को कासा दे ला इंडिया के सभागार में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें स्पेन के जिप्सी समुदाय के पारंपरिक नृत्य फ़्लेमेंको को उसके भारतीय स्रोत से जोड़ने का प्रयास किया गया तथा साथ ही भरतनाट्यम, कत्थक, हंस वीणा, तबला और मृदंगम एवं फ़्लेमेंको नृत्य और गायन का अन्तर्राष्ट्रीय कलाकारों ने अद्भुत समागम किया। स्पेन की प्रसिद्ध भरतनाट्यम विशेषज्ञ मोनिका देला फुएंते द्वारा हरिवंश राय बच्चन की कविता ‘इस पार प्रिये तुम हो मधु है’ पर किया गया मोहक नृत्य दर्शनीय था।
सांस्कृतिक कार्यक्रम के उपरांत भारतीय राजदूत महोदय द्वारा प्रतिभागियों के स्वागत में प्रीति भोज दिया गया।

संगोष्ठी में सभी प्रतिभागियों को स्थानीय परिभ्रमण के लिए भी ले जाया गया । इस प्रकार स्पेन की पहली तीन दिवसीय संगोष्ठी यूरोप में हिंदी के उज्जवल भविष्य की कामना के साथ संपन्न हुई I


- शैक्षिक निदेशक हिंदी संगोष्ठी
वय्यादोलिद विश्वविद्यालय
स्पेन






यूरोपीय हिंदी संगोष्ठी, 2012 के वक्ताओं की वर्णक्रमानुसार सूची
 
1.    अफ़ज़ल अहमद, प्रोफ़ेसर, लिस्बन विश्व विद्यालय, पुर्तगाल
2.    अलका ऐत्रय चुडल, वरिष्ठ लेक्चरर, विएना विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रिया
3.    अलेस्सांद्रा कोंसोलारो, एसोसिएट प्रोफ़ेसर, रोम विश्वविद्यालय, इटली
4.    अरूण प्रकाश मिश्रा.विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, स्लोवेनिया विश्वविद्यालय, स्लोवेनिया
5.    अशोक चक्रधर, उपाध्यक्ष,केन्द्रीय हिंदी शिक्षण मंडल, आगरा, भारत 
6.    इंदिरा गाज़िएवा, असिस्टेंट प्रोफ़ेसर, मॉस्को विश्वविद्यालय, रूस
7.    उदय नारायण सिंह, प्रोवाइस चांसलर, विश्व भारती,कोलकाता, भारत
8.    ऐश्वर्य कुमार, हिंदी प्राध्यापक, केम्ब्रिज विश्वविद्यालय, इंग्लैंड 
9.    कविता वाचक्नवी, लेखिका, लंदन, इंग्लैंड
10.    कैलाश नारायण तिवारी, विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, वारसा विश्वविद्यालय, पोलैंड
11.    गेनादी श्लोम्पेर, हिंदी प्राध्यापक,तेलेविव विश्वविद्यालय, इजराइल
12.    जगन्नाथन वी.आर.,निदेशक, महात्मा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय, पूर्व प्रोफ़ेसर,इग्नू, दिल्ली, भारत
13.    जस्टीना कुरोव्सका, रिसर्च फ़ैलो , बॉन विश्वविद्यालय, जर्मनी
14.    तात्याना औरन्स्कया, हैम्बर्ग विश्वविद्यालय, जर्मनी
15.    दानूता स्तानिक, प्रोफ़ेसर,  वारसा विश्वविद्यालय, पौलेण्ड
16.    दीप्ति गोलानी, हिन्दी प्राध्यापक, कासा एशिया, बार्सीलोना, स्पेन
17.    नवीन चंद्र लोहानी, लूसान विश्वविद्यालय, स्विट्ज़रलैंड
18.    नारायण राजू वी.एस.एस.सिरीवुरी, विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, सोफ़िया विश्वविद्यालय, बल्गारिया
19.    पूनम जुनेजा, महासचिव , विश्व हिंदी सचिवालय, मॉरिशस
20.    बिल्जाना ज़्रनिक, हिंदी प्राध्यापक, ज़ाग्रेब विश्वविद्यालय, क्रोएशिया
21.    महेंद्र किशोर वर्मा, ऑनरेरी फ़ैलो, यॉर्क विश्वविद्यालय, इंग्लैंड
22.    मोहन कान्त गौतम, प्रोफ़ेसर, पश्चिम व पूर्व यूरोपीय विश्वविद्यालय, नैदरलैंड
23.    रमेश शर्मा, विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, घेंट विश्वविद्यालय, बेल्जियम
24.    ल्युदमिला खोख्लोवा, एसोसि़एट प्रोफ़ेसर, मॉस्को स्टेट विश्वविद्यालय, रूस
25.    विजया सती, विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, एल्ते विश्वविद्यालय, बुडापेस्ट, हंगरी
26.    विभूति नारायण राय, वाइस चांसलर, महात्मा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा, भारत
27.    वैश्ना नारंग, प्रोफ़ेसर, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय,  दिल्ली, भारत
28.    शिव कुमार सिंह, लेक्चरर, लिस्बन विश्वविद्यालय, पुर्तगाल
29.    शेफ़ाली वर्मा,हिंदी प्राध्यापिका, कासा एशिया, माद्रिद, स्पेन
30.    श्रीश जैसवाल, विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, वय्यादोलिद विश्वविद्यालय, स्पेन
31.    सबीना पोपर्लान, लेक्चरर, बुखारेस्ट विश्वविद्यालय, रोमानिया                  
32.    हर्मन वैन ऑलफ़ेन, प्रोफ़ेसर एमेरेटस, टेक्सस विश्वविद्यालय, ऑस्टिन, अमेरिका
33.    हैंज़ वेर्नर वैस्लर, विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, उप्साला विश्वविद्यालय, स्वीडन
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...